Movie Review: एसिड अटैक सर्वाइवर्स का दर्द महसूस कराने में सफल रही मेघना गुलज़ार की 'छपाक'

1/10/2020 12:21:47 PM

बॉलीवुड तड़का डेस्क। एसिड-अटैक सर्वाइवर मालती (दीपिका पादुकोण) की जिंदगी के इर्द-गिर्द घूमती यह कहानी उनके जीवन के 13 साल कवर करती है। 12th क्लास से शुरू हुई मालती की इस कहानी में, हम उनके जीवन के उतार-चढ़ाव देखते हैं। एसिड अटैक होने के बाद मालती नौकरी के लिए तलाश शुरू करती है और अमोल (विक्रांत मैसी) से टकराती है।

PunjabKesari, Chhapaak Movie Review

अमोल, छाया नाम का एक एनजीओ चलाता है जो एसिड-अटैक सर्वाइवर्स की मदद करता है। मालती एनजीओ को चलाने में मदद करती है और अन्य सर्वाइवर्स के साथ अपनी जर्नी को आगे बढाती है। वह एसिड की खुली बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए जनहित याचिका (पब्लिश इंटरेस्ट लिटिगेशन) दायर करती है। असल में मालती का मानना यह है कि एसिड की कुछ बूंदें उससे सब कुछ नहीं ले सकती हैं।

PunjabKesari, Chhapaak Movie Review

मेघना गुलज़ार की पहले ही दो शानदार फिल्मों (तलवार, राज़ी) में से कोई भी उन्होंने अकेले नहीं लिखी है। 'तलवार' विशाल भारद्वाज और 'राजी' की कहानी में हरिंदर सिक्का को ऑनबोर्ड किया गया था। 'छपाक' में भी, कहानी और डायलॉग्स के लिए अतिका चौहान (मार्गरीटा विद ए स्ट्रॉ, वेटिंग) ने काम किया है। वह कहानी के बेस को सही तरीके से मैनेज करके चली हैं, जिससे पहले हाफ तक फिल्म काफी सफल लगती है। इंटरवल तक फिल्म में सब कुछ हो चुका होता है, इसलिए सवाल आता है अब आगे क्या!

PunjabKesari, Chhapaak Movie Review

फिल्म देखते हुए स्क्रिप्ट में मुख्य रूप से चार समस्याएं नजर आती हैं। सुस्त कोर्टरूम सीक्वेंस, मालती का परिवार पूरी तरह से फोकस से बाहर था, मजबूत कहानी के साथ एक मजबूत क्लाइमेक्स और कहानी का रोमांटिक एंगल

PunjabKesari, Chhapaak Movie Review
मालती के कैरेक्टर को दीपिका पादुकोण ने बखूबी निभाने की कोशिश की हैं। मेघना इसमें काफी सफल रही। दीपिका अपनी फीलिंग्स को बखूबी स्क्रीन पर दिखाती हैं। विक्रांत मैसी का कैरेक्टर वास्तव में कहानी में फिट होने की कोशिश करता है, लेकिन उनके स्क्रीन-स्पेस के प्रमुख भाग के दौरान भी उनके द्वारा कुछ खास कमाल नहीं किया जा सका। मधुरजीत सरगी जो वकील की भूमिका निभाते हैं, वह अभूतपूर्व है। इप्शिता चक्रवर्ती अपने कैमियो में शानदार हैं।

PunjabKesari, Chhapaak Movie Review
मेघना के विषय की सेंसेटिविटी को बनाए रखने की वजह से फिल्म से बहुत सारी चीजें गायब हैं। फिल्म में सिर्फ दो गानों को शामिल करने का सही फैसला लिया गया है, लेकिन शंकर-एहसान-लॉय रोमांटिक ट्रैक, नोक-झोक के साथ प्रभावित करने में फेल रहे हैं। छपाक एसिड-हमले जैसे जघन्य अपराध पर बनी एक साहसिक फिल्म है। यह एसिड अटैक सर्वाइवर के दर्द को महसूस कराती है। 


Edited By

Akash sikarwar


Related News