पंचतत्वों में विलीन हुए महेश बाबू के बड़े भाई रमेश,बेटे के पार्थिव शरीर के पास बैठ रोती रही बूढ़ी मां तो एक टक देखता रहा पिता

1/10/2022 10:02:49 AM

मुंबई: तेलुगु फिल्म स्टार महेश बाबू इस समय बेहद ही मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं। एक तरफ जहां महेश बाबू  कोरोना से जंग लड़ रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ उनके बड़े भाई और एक्टर से निर्माता बने रमेश बाबू दुनिया को अलविदा कह गए। लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे रमेश बाबू ने 56 की उम्र में अंतिम सांस ली। 

PunjabKesari
 

रमेश बाबू के पार्थिव शरीर को रविवार को सुबह 11 बजे से पद्मालय स्टूडियो में लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था और दोपहर करीब 12 बजे महाप्रस्थानम में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

PunjabKesari

उनके अंतिम संस्कार की कुछ तस्वीरें सामने आईं हैं जो हर किसी की आंखों में आसूं ले आई। तस्वीरों में रमेश के बूढ़े बाप अपने उन्हें नम आंखों से अंतिम विदाई देते दिख रहे हैं।

PunjabKesari

जहां एक बूढ़ा मां इंदिरा देवी बेटे के पार्थिव शरीर के पास बैठी हैं।वहीं पिता कृष्णा बेटे के पार्थिव शरीर को अंतिम बार एक टक निहार रहे हैं।

PunjabKesari

 मीडिया में जो तस्वीरें निकलकर आ रही। उसके मुताबिक फिल्म स्टार कृष्णा अपने बड़े बेटे रमेश बाबू के पार्थिव शरीर को लेकर घर पहुंचे हैं। 

PunjabKesari

बता दें कि रमेश बाबू ने अपने पिता कृष्णा की फिल्मों से एक बाल कलाकार के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की थी।

PunjabKesari

बाद में उन्होंने कई फिल्मों में मुख्य भूमिका निभाई।

PunjabKesari

रमेश बाबू ने 1974 में अल्लूरी सीतारामाराज से डेब्यू किया था। इसके अलावा उन्होंने ना इले ना स्वर्गम, अन्ना चेलेलु, चिन्नी कृष्णुडु जैसी हिट फिल्मों में काम किया है। रमेश बाबू ने कई फिल्मों में छोटे भाई महेश बाबू के साथ भी स्क्रीन को शेयर कर चुके हैं। 

PunjabKesari

एक्टिंग में हाथ आजमाने के बाद उन्होंने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में कदम रखा और 'अर्जुन' और 'अतिथि' जैसी फिल्मों का निर्माण किया। 

PunjabKesari

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Smita Sharma


Related News

Recommended News