गम में डूबा देश: लता मंगेशकर के निधन पर PM मोदी बोले-'बेहद पीड़ा में हूं, देश में खालीपन छोड़ गईं लता दीदी'

2/6/2022 10:29:26 AM

मुंबई:  भारत रत्न और स्वर कोकिला लता मंगेशकर का निधन हो गया है। शनिवार को  स्वास्थ्य बिगड़ने के बाद लता जी को दोबारा वेंटिलेटर पर रखा गया था। वहीं रविवार सुबह 8 बजकर 12 मिनट पर उन्होंने 92 की उम्र में अंतिम सांस ली। वह पिछले काफी समय से मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती थीं।

 

PunjabKesari

उन्हें कोविड हुआ था।कोविड से तो उन्होंने जंग जीत ली थी  लेकिन फिर भी स्वर कोकिला जिंदगी की जंग जीत न सकीं।  बाॅलीवुड से लेकर राजनीति गलियारों तक ने शोक की लहर दौड़ पड़ी है। देख के प्रधानमंत्री ने एक बाद एक ट्वीट कर लता जी को श्रद्धांजलि दी। 

PunjabKesari

 

उन्होंने अपने पहले ट्वीट में लिखा-'मैं शब्दों से परे पीड़ा में हूं। दयालु और देखभाल करने वाली लता दीदी हमें छोड़कर चली गई हैं। वह हमारे देश में एक खालीपन छोड़ गई है जिसे भरा नहीं जा सकता।

आने वाली पीढ़ियां उन्हें भारतीय संस्कृति के एक दिग्गज के रूप में याद रखेंगी, जिनकी सुरीली आवाज में लोगों को मंत्रमुग्ध करने की अद्वितीय क्षमता थी।'

 

 उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा-'लता दीदी के गानों ने कई तरह के इमोशन्स को उभारा। उन्होंने दशकों तक भारतीय फिल्म जगत के बदलावों को करीब से देखा। फिल्मों से परे, वह हमेशा भारत के विकास के बारे में भावुक थीं। वह हमेशा एक मजबूत और विकसित भारत देखना चाहती थी।'

आखिरी ट्वीट में पीएम मोदी ने लिखा-'मैं इसे अपना सम्मान मानता हूं कि मुझे हमेशा लता दीदी से अपार स्नेह मिला है। उनके साथ मेरी बातचीत अविस्मरणीय रहेगी। लता दीदी के निधन  पर मुझे अपने साथी भारतीयों के साथ शोक है। उनके परिवार से बात की और संवेदना व्यक्त की।'

PunjabKesari

 

28 सितंबर 1929 को इंदौर में जन्मी लता मंगेशकर भारत की सबसे लोकप्रिय और आदरणीय गायिका थीं। उनका छ: दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है। लता जी ने लगभग तीस से ज्यादा भाषाओं में फिल्मी और गैर-फ़िल्मी गाने गाये हैं लेकिन उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में एक पार्श्वगायक के रूप में रही है। लता मंगेशकर को भारत सरकार ने 'भारतरत्न' से सम्मानित किया था।


 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Smita Sharma


Related News

Recommended News