फरमानी नाज के ''हर हर शंभू'' गाने पर उलेमाओं ने जताई आपत्ति तो सिंगर का पलटवार- ''आवाज अल्लाह ने दी, भजन गाने से कोई हिंदू नहीं बन जाता''

8/2/2022 11:14:10 AM

बॉलीवुड तड़का टीम. 'इंडियन आइडल' फेम फरमानी नाज अपने यूट्यूब चैनल पर 'हर हर शंभू' भजन को लेकर खूब सुर्खियों में हैं। लोगों को उनका यह सॉन्ग खूब पसंद आ रहा है।  उनके हिंदू भजन गाए जाने से कुछ मुस्लिम कट्टरपंथियों ने उनसे नाराजगी जताई है और सिंगर की आलोचना कर रहे हैं। अब इन कट्टरपंथियों को फरमानी नाज ने भी तीखा जवाब दिया है और आलोचकों की बोलती बंद की है।

PunjabKesari


फरमानी नाज का 'हर हर शंभू' भजन सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद देवबंद के उलेमाओं ने आपत्ति जताई है और कहा है कि इस्लाम में हिंदू भक्ति गीत गाना हराम है। देवबंद के उलेमाओं ने यह भी कहा है कि फरमानी को इसके लिए अल्लाह से माफी मांगनी चाहिए। अब अपने आलोचकों को जवाब देेते हुए सिंगर ने कहा, 'मोहम्मद रफी ने भी भक्ति गीत गाए हैं। हमने मास्टर सलीम को भी ऐसे गाने गाते हुए सुना है जो लोगों के बीच बेहद पॉप्युलर हैं।' 

PunjabKesari


इस मुद्दे पर फरमानी ने आगे कहा, 'एक कलाकार का कोई धर्म नहीं होता। मैं कव्वाली गाने के साथ ही हिंदू धार्मिक गाने भी गा सकती हूं। कोई भी कलाकार हिंदू-मुसलमान देखकर परफॉर्म नहीं करता। जब हम गाते हैं तो यह नहीं सोचते कि यह हिंदुओं का गाना या मुसलमानों का क्योंकि गाने गाना हमारा प्रोफेशन हैं।' 

 

इससे पहले मुफ्ती असद कासमी ने फरमानी नाज के बारे में कहा था कि उन्होंने जो किया है उसकी इस्लाम में माफी नहीं है। मुफ्ती ने कहा कि फरमानी को इस्लाम से बेदखल तो नहीं किया गया है लेकिन उन्होंने ऐसा काम जरूर किया है जो हराम है और निंदनीय है, उन्हें दोबारा ऐसा नहीं करना चाहिए।

 


मुफ्ती के इस बयान पह फरमानी नाज ने कहा कि उन्हें ऐसे लोगों के बारे में कोई बात नहीं करनी है। उन्होंने कहा, 'यह बिल्कुल हराम नहीं है। हर कोई अपनी उसी आवाज का इस्तेमाल कर रहा है जो अल्लाह ने दी है। हम भजन गाने से कोई हिंदू नहीं बन जाते हैं। हम लोग केवल कलाकार हैं।'


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

suman prajapati


Related News

Recommended News