फिल्म इवेंट्स में फेक फैंस की भारी डिमांड, स्टार्स की पॉपूलैरिटी के लिए करते हैं काम

7/10/2024 3:37:44 PM

बॉलीवुड तड़का टीम. किसी स्टार के फिल्म टीजर लॉन्च और किसी फैन एक्टिविटी में भीड़ का मतलब अक्सर पॉपूलेरिटी से लिया जाता है। हालांकि, शोबिज के सूत्रों ने खुलासा किया है इवेंट में भीड़ का पॉपूलेरिटी नहीं हो सकता। कुछ फैंस फेक या मार्किट एजेंसी से खरीदे हुए हो सकते हैं।

मुंबई में एक स्थापित चलन बन गया

शोबिज के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि मुंबई में कई फिल्म ट्रेलर और टीजर लॉन्च के साथ-साथ फैंस गतिविधियों में 200-400 लोगों की भारी भीड़, प्रति व्यक्ति केवल 200-500 रुपये और भोजन के साथ सुनिश्चित की जा सकती है। यह सुनिश्चित करता है कि स्टार्स का शानदार स्वागत हो। हालांकि निर्मित भीड़ और लोकप्रियता की यह धारणा आश्चर्यजनक हो सकती है। शोबिज के लोगों का कहना है कि पिछले कुछ सालों में यह मुंबई में एक स्थापित चलन बन गया है।

मार्केटिंग एजेंसियाँ नकली भीड़ बनाने के लिए काम कर रही

लोकप्रियता का यह दिखावा एक भ्रम पैदा करता है कि अभिनेताओं के लिए सैकड़ों असली फैंस चीयर कर रहे हैं। अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि प्रचार टीमें और मार्केटिंग एजेंसियाँ नकली भीड़ बनाने के लिए काम कर रही हैं। चीयर और विरोध दोनों के लिए - ताकि प्रचार हो सके। 

'फेक फैंस को महौल बनाने के लिए बुलाया जाता है

फेक फैंस को लाने वाली एक एजेंसी के एक सूत्र ने कहा, "फिल्म आयोजनों में इसकी बहुत मांग है। इन लोगों को महौल बनाने के लिए बुलाया जाता है। वे  खूब चिल्लाते हैं, सीटी बजाते हैं, जयकार करते हैं और यह धारणा बनाने के लिए बहुत कुछ करते हैं कि फिल्म को लेकर प्रचार हो रहा है। हमारे सभी जूनियर कलाकारों को असली फैंस की तरह काम करने के लिए कहा जाता है। हम उन्हें इवेंट से पहले नाम पुकारने के लिए कहते हैं। फिर इन क्लिप को एक्टर के बारे में प्रचार करने के लिए सोशल मीडिया पर पोस्ट और शेयर किया जाता है।"


इवेंट मैनेजमेंट एजेंसियां, स्टार्स का उत्साहवर्धन करने के लिए दिखावटी फैंस जुटाने के लिए बाहरी एजेंसी को नियुक्त करती हैं। इन कथित प्रशंसकों को जूनियर आर्टिस्ट कहा जाता है। एक सूत्र ने बताया, "हम एक लोकप्रिय पंजाबी एक्टर की फिल्म का प्रचार कर रहे थे, और उनकी आने वाली फिल्म के लिए एक कार्यक्रम था। जब वह इवेंट एजेंसी के साथ अंतिम विवरण पर चर्चा कर रहे थे, तो आयोजक ने पूछा, 'जूनियर आर्टिस्ट का क्या करना है?' अभिनेता यह जानकर हैरान रह गए कि इन जूनियर कलाकारों को अभिनेताओं का उत्साहवर्धन करने के लिए रखा गया है। 


अगले दिन, प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक्टर ने कहा, 'हमने ताली बजाने के लिए फैन नहीं बुलाए, आप लोग ही बजा दो।'" मुंबई में, यह चौंकाने वाला नहीं बल्कि नियमित है। सूत्रों का कहना है कि ए-लिस्टर्स की फिल्मों को छोड़कर, पिछले दो से तीन वर्षों में कई बड़े बजट की फिल्मों ने प्रशंसकों को काम पर रखा है। कई दक्षिण की फिल्में भी हैं, जिनके लिए पैसे देकर भीड़ जुटाई गई थी। ‘फिल्मी कार्यक्रमों में नकली प्रशंसकों की भारी मांग है’ 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

suman prajapati


Related News