अपने नए टेलीप्ले को लेकर सरिता जोशी ने कहा, "यह कहानी उन महिलाओं के बारे में है जो 'बाई' से कहीं बढ़कर हैं"

1/5/2023 12:09:06 PM

मुंबई। पद्म श्री और संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार विजेता सरिता जोशी दशकों से गुजराती और हिंदी थिएटर, टेलीविजन और फिल्मों में काम कर रही हैं। वे अपने द्वारा निभाए गए किरदारों के प्रति पूर्ण समर्पण के लिए जानी जाती हैं और अब वे नज़र आएँगी नादिरा ज़हीर बब्बर के क्लासिक नाटक 'सकुबाई' में। वे कहती हैं, "यह चरित्र मुझे बहुत सारी शक्तिशाली, उदार और कर्मठ महिलाओं की याद दिलाता है जिन्होंने मुझ जैसी कामकाजी माँ को अपने बच्चों को पालने पोसने और बड़ा करने में मदद की। सकुबाई मेरे दिल के बहुत करीब है, क्योंकि यह मुझे उन अनगिनत घरेलू कामगारों की याद दिलाती है जिनकी पहचान एक 'बाई' से बहुत अधिक हैं। सकुबाई की तरह, वे भी बड़ी चुनौतियों से गुज़रती हैं पर फिर भी धैर्य और मुस्कान के साथ हर रोज जीवन का सामना करती हैं।"

बचपन से अपनी रंगमंच की यात्रा शुरू करने वाली जोशी कहती हैं, "मेरे दिवंगत पति प्रवीण जोशी एक बहुत अच्छे निर्देशक थे जिन्होंने गुजराती रंगमंच को एक नई दिशा दी। मैंने नाटककार, अभिनेता और निर्देशक आदि मर्ज़बान जैसे दिग्गजों के साथ भी काम किया जिन्होंने पारसी रंगमंच का आधुनिकीकरण किया।  शैलेश दवे, अरविंद जोशी और  शांता आप्टे जैसे महान कलाकारों से सीखने का भी सौभाग्य मुझे मिला और उन्होंने मुझे अभिनय शिल्प और रंगमंच के बारे में बहुत कुछ सिखाया।

 हालांकि उन्होंने कई किरदार निभाए हैं, लेकिन वे कहती हैं, "इस किरदार से मैंने सीखा कि छोटी-छोटी चीज़ों में खुशी और हास्य कैसे ढूंढा जाता है। बहुत लंबे समय तक, इन महिलाओं को वह श्रेय नहीं दिया गया जो उन्हें  मिलना चाहिए पर  लॉकडाउन अवधि के दौरान लोगों को एहसास हुआ कि उन्हें अपने घरों को सुचारू रूप से चलाने के लिए एक सकुबाई की कितनी आवश्यकता है।"

वह अपनी निर्देशिका नादिरा जहीर बब्बर की प्रशंसा करती हैं, जिन्होंने सकुबाई के चरित्र की कई परतों को उनके समक्ष रखा  और  कहती हैं, "सकुबाई मुंबई में एक अमीर परिवार की देखभाल करती हैं और उसके  पास अपना जीवन साझा करने के लिए कोई नहीं है। जैसे ही वह दर्शकों के साथ संवाद करना शुरू करती हैं, सामाजिक असमानता, लैंगिक हिंसा और लड़कियों के लिए अवसरों की कमी जैसे मुद्दे खुद को प्रकट करने लगते हैं। दर्शकों को नाटक में दिखाई नहीं देने वाले विभिन्न पात्रों को प्रतिरूपित करने में भी मुझे बहुत मज़ा आया। सकुबाई को मूर्त रूप देना और महिलाओं के लिए अधिक सहानुभूति और सम्मान की आवश्यकता को समक्ष रखना मेरे लिए एक बहुत ही सुखद अनुभव था."

'सकुबाई' का प्रसारण टाटा प्ले थिएटर पर 5 जनवरी को दोपहर 2 बजे और रात 8 बजे टाटा प्ले थिएटर पर किया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Custom

Auto Desk


Related News

Recommended News