बचपन से ही एक्टिंग का शौंक रखते थे शशि कपूर, 4 साल की उम्र में किया था चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर काम

3/18/2020 10:40:13 AM

बॉलीवुड तड़का टीम. हिंदी सिनेमा में शानदार अभिनय से अमिट छाप छोड़ने वाले शशि कपूर की आज 82वीं बर्थ एनिवर्सरी है। फिल्म इंडस्ट्री में चार्मिंग बॉय के नाम से मशहूर शशि कपूर भले ही आज दुनिया में नहीं हैं, लेकिन आज भी उन्हें और उनके कामों को लोगों द्वारा बखूबी याद किया जाता है।

PunjabKesari

शशि कपूर का जन्म 18 मार्च 1938 को कलकत्ता में हुआ था। शशि का असली नाम बलबीर राज कपूर था, लोगों में वो शशि के नाम से जाने जाते थे। शशि अपने भाईयों राज कपूर और शम्मी कपूर से सबसे छोटे थे। शशि को एक्टिंग का शौंक बचपन से ही था। उन्होंने महज चार साल की उम्र से ही फिल्मों में चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर काम करना शुरू कर दिया था। एक्टर ने साल 1961 में 'धर्मपुत्र' फिल्म से अपने करियर की शुरूआत की।

PunjabKesari
शशि न सिर्फ बॉलीवुड में ही बेस्ट एक्टर के तौर पर जाने जाते थे, बल्कि हॉलीवुड में भी उन्होंने खूब नाम कमाया। उन्होंने कई ब्रिटिश और अमेरिकन फिल्मों में भी काम किया।

PunjabKesari
बता दें एक्टर तीन बार नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित हो चुके हैं। साल 2014 में उन्‍हें दादासाहेब फालके अवॉर्ड से भी सम्‍मानित किया जा चुका है।

PunjabKesari
लव लाइफ की बात करें तो, शशि कपूर की शादी जेनिफर कैंडल के साथ हुई। शशि की जेनिफर से पहली मुलाकात 1956 में रॉयल ओपेरा हाउस में हुई थी। वहां जेनिफर परफॉर्मेंस देखने आई हुई थी। पहली मुलाकात में दोनों एक दूसरे को दिल दे बैठे थे और शादी के लिए मन बना लिया। लेकिन जेनिफर के पिता जेफ्री कैंडल को ये शादी मंजूर नहीं थी। शशि से शादी के लिए जेनिफर ने अपने पिता का घर छोड़ दिया और 1958 में मुंबई में दोनों ने पारंपरिक रीति-रिवाजों से शादी कर ली।

PunjabKesari

शादी के कुछ समय बाद दोनों के परिवार वाले सामान्य हो गए। शादी के एक साल के अंदर शशि कपूर पिता बन गए। कैंसर के चलते साल 1984 में जेनिफर की मौत हो गई। पत्नी की मौत के बाद शशि कपूर एकदम अकेले हो गए और उन्होंने फिल्मी दुनिया से दूरी बना ली। 

PunjabKesari
अकेलेपन में रहते हुए शशि काफी बीमार रहने लगे, जिसके चलते उन्हें अस्पताल में रहना पड़ा। 79 साल की उम्र में शशि भी दुनिया को अलविदा कह गए। भले ही आज शशि दुनिया में शामिल नहीं हैं, लेकिन उनके कार्यों को आज भी याद किया जाता है। 

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Edited By

suman prajapati


Related News

Recommended News