Movie Review: डांस के दीवानों के लिए है वरुण-श्रद्धा की ''स्ट्रीट डांसर 3डी''

1/24/2020 10:34:24 AM

बॉलीवुड तड़का टीम. फैंस के लंबे इंतजार के बाद वरुण धवन और श्रद्धा कपूर की फिल्म 'स्ट्रीट डांसर 3डी' आज पर्दे पर रिलीज हो चुकी है। फिल्म के ट्रेलर और गानों को फैंस के अच्छे रिस्पॉन्स मिले। अब फिल्म बॉक्स ऑफिस पर क्या धमाल मचाती हैं, ये फिल्म देखने के बाद ही पता लगेगा। अगर आप फिल्म देखने का प्लान बना रहे हैं, तो आइए एक बार इसका रिव्यू जान लेते हैं...
कहानी

PunjabKesari

फिल्म की कहानी दो ग्रुपों के बीच डांस मुकाबले के बीच घुमती है। फिल्म में सहज (वरुण धवन) और इनायत (श्रद्धा कपूर) अपने-अपने डांस ग्रुप के लीडर हैं। दोनों टीमों में काफी कट्टर्ता देखने को मिलती है। जहां सहज ग्रुप 'स्ट्रीट डांसर' के लीडर हैं, वहीं इनायत ग्रुप 'रूल ब्रेकर्स' की लीडर हैं। नोरा फ्तेही सहज की गर्लफ्रेंड का किरदार निभा रही है। इनायत की टीम पाकिस्तानी डांसर्स है और सहज की टीम में सभी हिंदूस्तानी है। इस तरह ये मुकाबला पाकिस्तानी-हिंदूस्तानी डांसर्स के बीच का है। दोनों टीमें हमेशा एक दूसरे को विरोधी की नजरों से देखती हैं। इसी बीच लंदन में एक डांस कॉम्पिटिशन होता है, जो कहानी में काफी ट्विस्ट लेकर आता है। इस कॉम्पटिशन से दोनों टीमों का जिंदगी के प्रति रवैया बदल जाता है। आखिर इस फिल्म में ऐसा क्या होता है, जो सभी का नजरिया बदल कर रख देता है, ये आपको फिल्म देखने के बाद ही पता चलेगा।

एक्टिंग

PunjabKesari
फिल्म में सहज और इनायत की एक्टिंग काफी अच्ची हैं, लेकिन फिल्म में डांस के मुकाबले एक्टिंग दोनों की कम देखने को मिली। वरुण और श्रद्धा के डांस मूव्स डांस के दीवानों के लिए बेहतर साबित होते हैं। वहीं नोरा फतेही भी अपने डांस से लोगों का दिल जीतने में कामयाब होती है। एक्टर प्रभुदेवा के धमाकेदार डांस से लोगों का नजरे हटाना मुश्किल है। 
डायरेक्शन

PunjabKesari
डायरेक्शन की बात करें तो रेमो डिसूजा में लोगों का एंटरटेनमेंट करने के लिए फिल्म में जान डालने की पूरी कोशिश की है। रेमो की मेहनत पर कोई संदेह नहीं किया जा सकता। फिल्म को जिस एंगल से बनाया गया है, उस हिसाब से ये काफी सुपरहिट साबित हो सकती है। 
रिव्यू

PunjabKesari
फिल्म का नाम सुनने में जितना जबरदस्त है, वैसा कुछ फिल्म में देखने को नहीं मिलता। यानि कहानी में कुछ खास नयापन नहीं है। फिल्म की स्टोरी पहली फिल्म एबीसीडी का कहानी से काफी मिलती जुलती है। फिल्म की अवधि जरूरत से ज्यादा लंबी है। फिल्म के पहले हिस्से की कहानी पकड़ बनाने में कामयाब नहीं हो पाती, हालांकि दूसरे हिस्से में फिल्म को दर्शको के साथ जोड़ने की पूरी कोशिश की गई है।


 


Edited By

suman prajapati


Related News