''जोरम'' की शूटिंग के दौरान मनोज बाजपेयी को करना पड़ा खराब मौसम का सामना

12/3/2023 4:58:33 PM

नई दिल्ली। झारखंड की लौह अयस्क खदानों की भीषड़ गर्मी में, प्रतिभा के पावरहाउस, मनोज बाजपेयी ने अपनी सर्वाइवल थ्रिलर, 'जोराम' के लिए विपरीत स्थितियों का सामना किया। निर्देशक देवाशीष मखीजा ने हाल ही में पर्दे के पीछे की उन चुनौतियों का खुलासा किया, जिन्होंने शूटिंग को प्रकृति के खिलाफ लड़ाई में बदल दिया।

निर्देशक  ने बताया कि टीम को मई में झारखंड की चिलचिलाती गर्मी में 51-52 डिग्री तक बढ़ते तापमान का सामना करना पड़ा। टीम को खुद को बचाने के लिए खनिकों के समान सुरक्षा उपाय करने पड़े, जिससे शूटिंग को "युद्ध में जाने" जैसा महसूस हुआ। विषम परिस्थितियों के बावजूद, टीम ने खनिकों के लचीलेपन को दर्शाते हुए चुनौती को स्वीकार किया, जिसका वे चित्रण कर रहे थे।

चरम मौसम की स्थिति के बारे में बात करते हुए निर्देशक देवाशीष ने कहा कि कोविड के परिणामस्वरूप हमें अपनी शूटिंग को पिछले साल मई तक आगे बढ़ाना पड़ा, जो देश के सबसे गर्म राज्य झारखंड में साल का सबसे गर्म महीना होता है। लौह अयस्क की खदानें जो झारखंड में सबसे गर्म, धूल भरी और बिना हरित आवरण वाला सबसे चरम स्थान है। यहां 51-52 डिग्री था जिस दिन हमने शूटिंग शुरू की उस दिन भयानक रेतीला तूफ़ान आया।

चुनौतियों के बावजूद, मखीजा ने दृढ़ संकल्प व्यक्त करते हुए कहा,  निश्चित रूप से चालू लौह अयस्क खदान के अंदर शूट करने वाली यह पहली भारतीय फिल्म हैं। ऐसी विषम परिस्थितियों में शूटिंग के लिए कोई भी चीज़ आपको तैयार नहीं करती। लेकिन हम एक दृढ़संकल्पित समूह थे और हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

मनोज बाजपेयी ने अपने विचार साझा करते हुए कहा, शूटिंग के दौरान हमें झारखंड में अप्रत्याशित चुनौतियों का सामना करना पड़ा। हमें इन विषम परिस्थितियों से खुद को बचाने के लिए आवश्यक सावधानियां बरतनी पड़ीं। मुझे कलाकारों और क्रू और स्थानीय प्रोडक्शन टीम पर बहुत गर्व है जिन्होंने अविश्वसनीय प्रयास किए। उन्होंने अद्भुत काम किया और उनकी कड़ी मेहनत ने हमारे प्रोजेक्ट को खास बना दिया, उन कठिन परिस्थितियों के बावजूद भी जिनका हमें सामना करना पड़ा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Varsha Yadav


Recommended News

Related News