हंसाने और रुलाने के अलावा डराता भी है ये ''जोकर'', दुनिया भर में हो रही है चर्चा

10/3/2019 5:52:44 PM

बॉलीवुड तड़का टीम।फिल्म में एक सीन है जहां आर्थर फ्लेक (जोकिन फीनिक्स) अपने पड़ोसी सोफी (ज़ाज़ी बीट्ज़) और उसकी बेटी के साथ एक पुरानी लिफ्ट में खड़ा है। बल्ब टिमटिमा रहे हैं, और लिफ्ट लगभग रुक गई है। सोफी इरिटेट होकर मेंशन करती हैं कि बिल्डिंग में काम चल रहा है। वह अपनी उंगलियों से वही आइकॉनिक बंदूक बनाकर यह दिखाने की कोशिश करती है कि स्थिति कितनी निराशाजनक है और आर्थर मुस्कुराता है।

PunjabKesari, Joker Movie Review Hindi

लिफ्ट फिर से काम करना शुरू कर देती है और वे अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं। अपने दरवाजे पर पहुंचने से ठीक पहले, आर्थर इशारे से लौटता है। वे अलग लेते हैं। वह समझकर मुस्कुराती है।

PunjabKesari, Joker Movie Review Hindi

उस सीन में वैसे तो कुछ नहीं है, लेकिन यह असहज है। यह आपको परेशान करता है, और आप नहीं जानते कि क्यों। लेकिन इस डरावने माइंड सेट के अलावा, यह उन घटनाओं का एक संकेत है जो फिल्म में दिखने वाली होती हैं।

PunjabKesari, Joker Movie Review Hindi

जोकर के डायरेक्टर टॉड फिलिप्स हैं और सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि ये पॉपुलर डीसी विलेन में से एक की मूल कहानी है। ये फिल्म एक जोकर की जिंदगी की कहानी है, जो भीड़ में भी अकेला रहता है। अपनी ही समस्याओं से परेशान एक जोकर आर्थर फ्लेक जिंदगी जीने की कोशिश कर रहा है। एक टॉक शो के दौरान उसे शो होस्ट मूर्रे फ्रैंकलिन (रॉबर्ट डी नीरो) मिलता है, जिसे वो अपना आदर्श मान लेता है। यह कहानी डीसी के पॉपुलर विलेन कैरेक्टर्स में से एक की कहानी है। 

PunjabKesari, Joker Movie Review Hindi
हमने सीजर रोमेरो के प्लेफुल प्रैंकस्टर, जैक निकोलसन को बैटमैन (1989) में देखा है लेकिन डार्क नाइट में जोकर के कैरेक्टर ने एक बेंचमार्क सेट किया, जिसे कोई भी छू नहीं सकता। इस फिल्म में जोकर के अंधेरे और दर्द को कोई नहीं भूल सकता। 

PunjabKesari, Joker Movie Review Hindi

80 के दशक में गोथम शहर में एक लोअर मिडिल क्लास शख्स आर्थर फ्लेक अपनी मां के साथ रहता है। उसकी इच्छाएं थोड़ी अलग है। स्टैंडअप कॉमेडियन बनने की चाह रखने वाले आर्थर के साथ के लोग अक्सर उसका मजाक उड़ाते हैं। वह लोगों के साथ हंसना चाहता है लेकिन लोग उस पर हंसते है। उसकी मानसिक स्थिति बिगड़ने लगती है। फिल्म का एक डायलॉग भी है कि किसी भी नॉर्मल इंसान को सिर्फ एक दिन लगता है पागलपन की तरफ मुड़ जाने में'. यही सोच कर वह भी पागलपन की हदें पार करने लगता है और एक डरावने क्लाइमैक्स के साथ, ये फिल्म आपको सोचने पर भी मजबूर कर देती है.

PunjabKesari, Joker Movie Review Hindi

कुल मिलाकर 'जोकर' एक वन-मैन शो है, जिसमें रॉबर्ट डी नीरो और ज़ाज़ी बीट्ज़ का बड़ा कैमियो है। फीनिक्स अपने प्रदर्शन से हिप्नोटिक और चौंकाते हैं, निश्चित रूप से फिल्म में उनकी परफॉरमेंस ऑस्कर लायक है। उनकी आंखें आपको परेशान करती हैं। वे अपने अंदर के राक्षस के साथ समाज में अपना संघर्ष भी दिखाते हैं। 

PunjabKesari, Joker Movie Review Hindi

जोकर के रूप में उनकी हंसी सिर्फ हंसी के अलावा और कुछ नहीं है। उनकी हंसी में कोई आनंद नहीं है। उनकी हंसी अंदर से भी मरी हुई लगती है। यह फिल्म हर किसी के लिए नहीं है, लेकिन यह निश्चित रूप से कई तरह की बहस को जन्म देती है। 


Edited By

Akash sikarwar


Related News