मोहब्बत की एक अलग दास्तां है JOGI

9/16/2022 12:35:52 PM

Rating : 4
Cast : दिलजीत दोसांझ , मोहम्मद जीशान अयूब , हितेन तेजवानी , परेश पाहूजा , अमायरा दस्तूर और कुमुद मिश्रा
Director:  अली अब्बास जफर

‘सुल्तान’, ‘टाइगर जिंदा है’ और ‘भारत’ जैसी सुपरहिट फिल्में बनाने वाले निर्देशक अली अब्बास जफर की ‘जोगी’ भी नेटफ्लिक्स पर रिलीज हो गई है। 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुई हिंसक घटनाओं पर आधारित ,इसमें मोहब्बत की एक अलग दास्तां हैं, जो बयां करती है कि मोहब्बत हमेशा जिंदा ही रहती है चाहे इसे करने वाला साथा हो या न हो। यह फिल्म ग्लैमर की चकाचौंध से दूर है। इसमें दिखाया गया है कि कैसे उस वक्त दिल्ली में रहने वाला सिख समुदाय आग के दरिया में डूबकर निकला था. इस फिल्म में दिलजीत दोसांझ मुझी भूमिका में नज़र आ रहे है उनके साथ मोहम्मद जीशान अय्यूब, कुमुद मिश्रा, हितेन तेजवानी, अमायरा दस्तूर और परेश पाहुजा जैसे कलाकार भी अहम किरदारों में हैं.दिलजीत दोसांझ यहां एक ऐसे सिख युवक के रूप में सामने आते हैं, जिसको अपने घरवालों से प्यार है। मोहल्ले वालों में उसकी जान बसती है। उसके दिल का एक कोना कमली के लिए भी धड़कता है

 
कहानी –
इस फिल्म में भारतीय इतिहास के काले अध्याय की खौफनाक झलक दिखाई गई है, जिसने उस वक्त के समाज और सियासत को झकझोर दिया था यह फिल्म 1984 के सिख विरोधी नरसंहार के इर्द-गिर्द घूमती है। 31 अक्टूबर, 1984 को पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा हत्या के बाद दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में हिंसा भड़क उठी थी। पूरे भारत में 3,000 से अधिक सिख मारे गए थे। सबसे ज्यादा दिल्ली में मारे गए।  इस फिल्म में एक सबसे बड़ी चुनौती दिखाई गई है और वो चुनौती है एक पूरी कौम को बचाने की,  जाहिर है समय कुर्बानी मांगता है। जोगी इसके लिए ही बना है। दोस्त मदद को सामने आते हैं। दुश्मनी के नए चेहरे भी सामने आते हैं। फिल्म ‘जोगी’ दोस्ती और प्यार की कहानी है। दोस्ती भी उन तीन दोस्तों की जिनमें एक सिख है, एक हिंदू है और एक मुसलमान।
 
एक्टिंग –
दिलजीत दोसांझ अदाकारी को दर्शक बहुत ज़्यादा पसंद कर रहें है अपने अभिनय से वो दर्शकों के दिलों में घर कर चुके हैं , वहीँ उनकी कमली यानी अमायरा दस्तूर भी कम कमाल नहीं है, अमायरा दस्तूर अपनी एक्टिंग से लोगों का दिल जीत रही है , वहीँ हितेन तेजवानी और परेश पाहूजा फिर एक  बार अपने अभिनय का पिटारा खोलने में कामयाब रहते हैं

रिव्यू -  
इस फिल्म की कहानी दर्शकों को एंड से झंकझोर कर रख देती है , इस फिल्म को देखते ही लोगों को अपना वो समय याद आ जाता है जो बेहद दर्दनाक था , फिल्म में अदाकारों की अदाकारी बाकमाल है ,फिल्म की  सिनेमैटोग्राफी, संकलन और कला निर्देशन भी कमाल का है। इस वीकएंड का ये घर बैठे अच्छा मनोरंजन है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Dishant Kumar


Related News

Recommended News