''बच्चे तब होंगे जब मेरी औकात होगी'' जब गुरमीत चौधरी ने देबीना से कही थी ये बात

4/9/2022 4:00:41 PM

मुंबई: एक इंसान के जीवन में रिश्ते ही होते हैं जो उसे जिम्मेदारियों का एहसास करवाते हैं। पीढ़ियां दर पीढ़ियां बढ़ती जाती हैं और हम नए रिश्ते बनाते रहते हैं। वहीं मां-बाप बनना जीवन के सबसे खूबसूरत और सुखुद अनुभवों में से एक है।हालांकि जिम्मेदारी बढ़ने का एहसास भी करवाता है। ऐसा ही कुछ हाल टीवी के एक्टर गुरमीत चौधरी का भी था जिस बारे में उन्होंने हाल ही में खुलकर बात की। गुरमीत ने बताया कि उन्होंने देबीना के साथ ये बात डिसकस की थी कि बच्चे तब होंगे जब मेरी वो औकात हो।

PunjabKesari

एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में गुरमीत ने कहा-'मेरे मम्मी-पापा ने मुझे हमेशा बहुत प्यार से रखा है। लेकिन क्योंकि हम मिडिल क्लास फैमिली से थे, बहुत सारी चीजें, मुझे मिल नहीं पाईं। मेरे मम्मी-पापा ने बेस्ट किया जो वो मेरे लिए कर सकते थे, लेकिन एक बच्चे के तौर पर आप चीजें सोचते हो, मुझे भी लगता था कि काश चीजें थोड़ी अलग होतीं। खास तौर पर मुझे ऐसा तब लगता था जब मैं अपने दोस्तों को देखता था। मैं हमेशा कंपेयर करता था कि उनके पास जो चीजें हैं वो मेरे पास नहीं हैं।'

PunjabKesari

 

अपनी बात जारी रखते हुए गुरमीत ने कहा-'जब मैंने काम करना शुरू किया, मैंने देबीना के साथ ये बात डिसकस की, कि बच्चे तब होंगे जब मेरी वो औकात हो। अगर मेरे बच्चे को कुछ चाहिए तो मुझे उसके लिए चिंता करने की जरूरत नहीं होनी चाहिए। एक बच्चे को पालने के लिए जिन भी चीजों की जरूरत होती है, मुझे पता है कि वो मैं कर सकता हूं। अब मुझे कभी भी सेकेंड थॉट लेने की जरूरत नहीं होगी। इसीलिए इंतजार था और मैं चीजों को सही समय पर करना चाहता था।'

PunjabKesari


घर ऐसे सजा जैसे कोई त्योहार

गुरमीत ने आगे कहा- 'बेटी के जन्म के सिर्फ एक हफ्ते के भीतर उनका घर रिश्तेदारों से भर गया। ऐसा लगता है कि जैसे किसी की शादी है। घर को ऐसे सजा दिया गया है जैसे कोई त्योहार हो। अब जब उनके खुद के घर में पहला बच्चा आया है तो गुरमीत काम पर जाते वक्त बस ये मना रहे होते हैं कि वह जल्दी घर पहुंचे ताकि अपनी बच्ची को दुलार सकें। गुरमीत चौधरी ने बताया- जब भी घर से जाता हूं तो मुझे लगता है कि तुरंत घर जाना है और अपनी बेटी को देखना है। वह छोटी सी है, हाथ में लेते हुए भी डर लगता है।'

PunjabKesari
 

बेटी को गोद में उठाने से डरते हैं गुरमीत

गुरमीत ने कहा-'हमें 50 किलो के डंबल उठाने की आदत है, और उसका शायद ही कोई वजन है तो मुझे ऐसा लगता था कि कहीं कस के ना पकड़ लूं। तो एक दिन मैं बहुत ज्यादा डरा हुआ था।'

 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Debina Bonnerjee (@debinabon)


गौरतलब है कि गुरमीत और देबीना के घर 3 अप्रैल को प्यारी की बेटी की किलकारी गूंजी थी। शादी के पूरे 11 साल बाद कपल पेरेंट्स बना है। ऐसे में कपल और उनके घर वाले सभी की खुशी का ठिकाना नहीं है।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Smita Sharma


Related News

Recommended News