''असली मां-बाप'' के चक्कर में उलझे साउथ सुपरस्टार धनुष, केरल दंपति को भेजा नोटिस

5/21/2022 11:29:44 AM

मुंबई: साउथ सुपरस्टार धनुष पिछले कुछ समय से अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर भी चर्चा मे हैं। पहले वह पत्नी ऐश्वर्या रजनीकांत से अलग होने के चलते खबरों में बने रहे। इसी बीचसामने आया है कि मदुरै का एक कपल उन्हें अपना बेटा बता रहा है। कपल ने एक्टर से हर महीने 65 हजार रुपए के मुआवजे की मांग की थी। अब इसपर धनुष का रिएक्शन सामने आया है। कपल की इस बात से धनुष काफी खफा हो गए हैं।

PunjabKesari

धनुष और उनके पिता कस्तूरी राजा ने वकील एस हाजा मोहिदीन गिष्टी के जरिए कपल को नोटिस भिजवाया है। इस नोटिस में कहा गया है कि कपल को ये कहना बंद करना होगा कि धनुष उनके बेटे हैं। इतना ही नहीं उन्हें प्रेस में एक बयान जारी करना होगा कि धनुष उनके बेटे नहीं हैं। अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया तो उन्हें 10 करोड़ का जुर्माना देना पड़ सकता है।

PunjabKesari

वकील ने अपने नोटिस में कपल को कहा है-'मेरे मुवक्किल आप दोनों से उनके खिलाफ झूठे, अक्षम्य और मानहानिकारक आरोप लगाने से बचने का आह्वान करते हैं। आपके द्वारा ऐसा न करने पर मेरे मुवक्किल इस संबंध में अपने अधिकारों की रक्षा के लिए और आपको आगे बढ़ने से रोकने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के लिए बाध्य होंगे। उनके खिलाफ इस तरह के झूठे, अक्षम्य और मानहानिकारक आरोप और आप दोनों पर भी मानहानि का कारण बनने और उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए मुकदमा चलाया जाएगा।'

PunjabKesari

उन्होंने आगे कहा-'मेरे मुवक्किल आपको एक प्रेस बयान जारी करने के लिए कह रहे हैं कि आपने झूठे आरोप लगाए हैं। अगर आप ऐसा करने में विफल रहते हैं तो मेरे मुवक्किल कानूनी पहल करेंगे। मेरे मुवक्किल की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए मुआवजे के तौर पर 10 करोड़ रुपए की राशि देनी होगी।'

PunjabKesari

पिछले कई सालों से मदुरै निवासी कथिरेसन और उनकी पत्नी मीनाक्षी यह दावा करते आ रहे हैं कि वे असल में धनुष के माता-पिता हैं। 2017 में कपल ने मदुरै की मजिस्ट्रेट कोर्ट में याचिका लगाई थी और कुछ साक्ष्य भी जमा कराए थे जो जांच के बाद खारिज कर दिए गए थे। जहां कपल ने यह दावा किया था कि धनुष उनके तीसरे बेटे हैं और घर छोड़कर फिल्म इंडस्ट्री में आ गए थे। वहीं, धनुष ने कोर्ट से संपर्क कर कपल के दावे को झूठा बताया।

 

बाद में कपल ने मद्रास हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और दावा किया कि धनुष ने पितृत्व परीक्षण के फर्जी दस्तावेज जमा कराए थे। कपल ने 2020 में अदालत द्वारा पारित किए गए उस आदेश को खारिज करने की मांग भी की थी जिसमें पितुत्व दस्तावेजों की पुष्टि के लिए कोई सहायक दस्तावेज न होने की बात कही गई थी। लगभग 18 दिन पहले मद्रास हाईकोर्ट ने धनुष को समन भेजा था और मामले में तलब किया था।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Smita Sharma


Related News

Recommended News