राजद्रोह मामला: 3 घंटे की पूछताछ के बाद लक्षद्वीप पुलिस ने आयशा सुल्ताना को छोड़ा,बोलीं-''अब सब खत्म''

6/25/2021 8:41:15 AM

मुंबई: लक्षद्वीप की पहली फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना बीते कई दिनों से विवादों में घिरी हुई हैं। आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का आरोप लगा है, जिसके चलते पुलिस ने उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था। इस मामले में आयशा से रविवार, बुधवार और गुरुवार को पूछताछ की गई। इसके बाद उन्हें छोड़ दिया गया। 

PunjabKesari

तीन दिनों तक पूछताछ करने के बाद पुलिस ने उन्हें छोड़ दिया है। लक्षद्वीप के कावारत्ती पुलिस स्टेशन में तीन घंटे पूछताछ के जैसी ही आयशा बाहर आईं तो उन्होंने कहा- 'अब सब खत्म हो गया है। मुझसे पुलिस ने कहा कि मैं कोच्चि जा सकती हूं। अब मैं वहां के लिए रवाना हो जाऊंगी। मैं शायद कल या परसों तक वहां पहुंचूंगी।' 

PunjabKesari

इससे पहले बुधवार को उनसे करीब आठ घंटे पूछताछ की गई थी। तब आयशा ने कहा था कि पुलिस ने मेरे फेसबुक, इंस्टाग्राम और वॉट्सऐप अकाउंट की जांच की। वह ये जांच कर रहे थे कि क्या मेरे विदेश में भी कोई लिंक हैं।

PunjabKesari


क्या है पूरा मामला? 

पिछले दिनों एक टीवी चैनल डिबेट के दौरान आयशा सुल्ताना ने कहा कि लक्षद्वीप में अभी तक कोरोना का एक भी केस नहीं था, लेकिन अब हर रोज 100 मामले सामने आ रहे हैं। मैं स्पष्ट तौर पर कह सकती हूं कि केंद्र सरकार ने बायो वेपन के तौर पर प्रशासक प्रफुल्ल पटेल की तैनाती की है। वह यहां पर अलोकतांत्रिक, जनविरोधी नीतियों को लागू कर रहे हैं, जिससे कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। आयशा के इस बयान के बाद भाजपा ने इसकी कड़ी आलोचना की और उसके खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज करवाया। वहीं केंद्रशासित प्रदेश की भाजपा इकाई के कई नेता इस कार्रवाई पर नाराजगी जता चुके हैं। यहां तक कि एक दर्जन से ज्यादा नेताओं ने पार्टी भी छोड़ दी है। 

PunjabKesari

भाजपा की लक्षद्वीप इकाई के अध्यक्ष अब्दुल खादर ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। अब्दुल खादर का आरोप है कि उन्होंने केंद्र शासित प्रदेश में कोविड-19 के प्रसार के बारे में झूठी खबर फैलाई थी। साथ ही यह भी कहा कि यह सुल्ताना का राष्ट्रविरोधी कृत्य था, जिसने केंद्र सरकार की 'देशभक्ति की छवि' को धूमिल किया। 

 

 

 

 

 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Smita Sharma


Recommended News

static