B''day Spcl: एआर रहमान की सफलता के पीछे है उनकी मां का हाथ, पढ़ाई छोड़ म्यूजिक अपनाने की दी थी सलाह

1/6/2022 11:41:44 AM

बॉलीवुड तड़का टीम. हिंदी सिनेमा के मशहूर और दिग्गज संगीतकार एआर रहमान अपना जन्मदिन 6 जनवरी को मनाते हैं। एआर रहमान भारत के उन कलाकारों में से एक हैं जिन्होंने अपने संगीत से पूरी दुनिया में नाम कमाया है। उनका संगीत हमेशा से अलग माना जाता रहा है। एआर रहमान का जन्म 6 जनवरी, 1966 को तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में हुआ था। उनके पिता आरके शेखर मलयालम फिल्मों में म्यूजिक स्कोर कंपोजर थे।

पूरी दुनिया में एआर रहमान के नाम से पहचान बनाने वाले, एआर रहमान का असली नाम दिलीप कुमार है। एआर रहमान ने धर्मांतरण कर अपना नाम बदला है, जो कई मौके पर उनके लिए एक चर्चा का विषय भी रहा है। घर में शुरू से संगीत का माहौल होने के कारण एआर रहमान ने 4 साल की उम्र में पियानो बजाना शुरू कर दिया था, लेकिन किस्मत एआर रहमान को बचपन से संघर्ष के रास्ते पर ले आई। उनके पिता आरके शेखर का महज 43 साल की उम्र में निधन हो गया था।

पिता के निधन के बाद घर की सारी जिम्मेदारी एआर रहमान के कंधों पर आ गई थी। ऐसे में एआर रहमान ने अपनी पढ़ाई करने के साथ अपने पिता के संगीत उपकरणों को किराए पर देना शुरू कर दिया था। रहमान की मां ने उपकरणों को बेचने से इनकार कर दिया क्योंकि उन्हें लगा कि वह उनके बेटे के करियर के लिए उपयोगी होंगे।

PunjabKesari


16 साल की उम्र तक, रहमान ने अपनी पढ़ाई को संगीत असाइनमेंट के साथ बैलेंस कर लिया था। जिसमें रिकॉर्डिंग सत्र के दौरान संगीतकारों की सहायता करना, कीबोर्ड बजाना और संगीत उपकरण ठीक करना शामिल था।

 

 

 

एआर रहमान दोस्त त्रिलोक नायर ने कृष्णा त्रिलोक को उनकी बुक नोट्स ऑफ ए ड्रीम में बताया था कि जब सीक्वेंसर भारत आया तो वह प्रोग्रामिंग में भी एक विशेषज्ञ बन गए और वह ऐसे इंसान बन गए जो कंप्यूटर से संगीत बनाना जानते थे। एस समय ऐसा आया जब स्कूल और काम दोनों एक साथ चलाना एआर रहमान के लिए असंभव हो गया। एक दिन वह अपनी मां के पास गए और उससे कहा कि उसे दोनों में से किसी एक को चुनना होगा। जिस पर एआर रहमान की मां ने उन्हें कहा कि वह स्कूल छोड़ दें और संगीत पर ध्यान केंद्रित करें। पढ़ाई के बारे में बाद में देख सकते हैं। 


बॉलीवुड में मणिरत्नम ने रहमान को अपनी फिल्म 'रोजा' में पहला ब्रेक दिया था। यही वजह है कि वह मणिरत्नम की बहुत इज्जत करते हैं। उनको जानने वाले लोग बताते हैं कि मणिरत्नम ही ऐसे अकेले शख्स हैं, जो रहमान से कभी भी अपनी मर्जी से मिल सकते हैं।

एआर रहमान ने भारतीय सिनेमा में संगीत को नए आयामों तक पहुंचाया है। एआर रहमान अपने करियर में एक बार ऑस्कर अवार्ड, चार राष्ट्रीय फिल्म अवॉर्ड, दो एकेडमी अवॉर्ड, दो ग्रैमी अवॉर्ड, एक बाफ्टा अवॉर्ड और गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड हासिल कर चुके हैं। रहमान जन्म से हिंदू थे, लेकिन बाद में उन्होंने इस्लाम कबूल लिया था। पहले उनका नाम दिलीप कुमार था। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

suman prajapati


Related News

Recommended News