Movie Review: ''रईस''

Wednesday, January 25, 2017 4:07 PM
Movie Review: ''रईस''

मुंबई: हाल ही में रिलीज हुई डायरेक्टर राहुल ढोलकिया फिल्म ‘रईस’ आपको 70 और 80 के दशक की फिल्मों की याद दिलाएगी, जिसका हीरो बुरा काम तो करता है लेकिन वो गरीबों का मसीहा भी है। एक पुलिसवाला है जो गंदी राजनीति के बीच भी अपना काम ईमानदारी से करता है। 

खूबसूरत हिरोइन है जो हीरो की परछाई बनकर रहती है। एक वफादार दोस्त है जो हीरो के लिए अपनी जान देने के लिए भी तैयार है। साथ ही कुछ बुरे लोग, सताई जनता, बेबस मां और खूब सारा एक्शन। इनके अलावा एक्ट्रैस सनी लियोन का एक आइटम सॉन्ग भी है जो खून-खराबे के बीच सुकून देता है। फिल्म में शाहरुख खान, माहिरा खान, नवाजुद्दीन सिद्दीकी मुख्य भूमिका में हैं। 

बता दें कि कहानी 80 के दशक के गुजरात पर बेस्ड है जहां रईस यानी शाहरुख खान अपनी अम्मी यानी शीबा चड्ढा के साथ रहता है, घर की माली हालत खराब होने की वजह से स्कूल के टाइम से ही रईस का दिमाग धंधे की तरफ आकर्षित होने लगता है, और वो स्कूल के बैग में शराब रखकर सप्लाई करने लगता है। लेकिन बड़े होने के बाद रईस अपना खुद का धंधा शुरू करता हैं। 

अपने दिमाग और डेयरिंग की वजह से वो जल्द ही अवैध शराब का बड़ा बिजनेस मैन बन जाता है, लेकिन इसी बीच एसपी मजूमदार यानी नवाजुद्दीन सिद्दीकी उसके पीछे पड़ जाता है जो काफी कड़क पुलिसवाला है, लेकिन रईस का धंधा रोक पाने की हजार कोशिशें करने के बावजूद भी मजूमदार उसे पकड़ नहीं पाता है। इस दौरान कहानी में कई उतार आते हैं, जिनमें चुनाव, दंगे बम ब्लास्ट जैसी कई घटनाएं दिखाई जाती हैं। फिल्म की एंडिंग भी काफी दिलचस्प है।
 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !