रियल लाइफ में न क्वीन हूं और न ही तनु की तरह: कंगना

Wednesday, April 22, 2015 4:39 PM
रियल लाइफ में न क्वीन हूं और न ही तनु की तरह: कंगना

जालंधर: ‘तनु वैड्स मनु’, ‘क्वीन्स’, ‘गैंगस्टर’ तथा ‘राज-द मिस्ट्री कंटीन्यू’ आदि फिल्मों में शानदार अभिनय करके दर्शकों पर अपनी छाप छोडऩे वाली बालीवुड अभिनेत्री कंगना राणावत ने अपनी नई फिल्म ‘तनु वैड्स मनु रिटर्न्स’ के बारे में कहा है कि यह हमारी सीक्वल फिल्म है। पहला पार्ट 2010 में ‘तनु वैड्स मनु’ आया था जो काफी हिट हुई थी। तनु व मनु की शादी हो चुकी है तथा शादी के बाद उनका जीवन कैसे आगे बढ़ता है और उसमें क्या-क्या घटनाएं होती हैं, इसके बारे में नई फिल्म ‘तनु वैड्स मनु रिटर्न्स’ में दर्शाया गया है। 

जब उनसे पूछा गया कि नई फिल्म में आपका डबल रोल है अर्थात आपके सामने दोगुनी चुनौतियां व लोगों की आपसे दोगुनी उम्मीदें, कंगना ने कहा कि इस फिल्म में उनके सामने नया किरदार व नई चुनौतियां थीं। उन्होंने कहा कि फिल्म में दत्तो नामक लड़की हरियाणवी है जबकि वह स्वयं हिमाचल प्रदेश से संबंध रखती है इसलिए उनके लिए हरियाणवी भाषा में बातचीत करना स्वयं में एक चुनौतीपूर्ण कार्य था। यह पूछे जाने पर कि क्या आपने हरियाणवी भाषा सीखने के लिए कोई कोर्स किया था, कंगना ने कहा कि उन्होंने इसके लिए कोई विशेष कोर्स या कक्षाएं अटैंड नहीं कीं। 

जब भी कोई डायलॉग बोलना होता था तो उससे पहले शूटिंग में उन्हें काफी खाली समय मिल जाता था जिसमें वह हरियाणवी भाषा की पंक्तियों को बोलकर अभ्यास करती रहीं। जब उनसे पूछा गया कि अब आप किस अभिनेता के साथ काम करने की इच्छा रखती हैं, कंगना ने कहा कि अब वह उस मुकाम पर पहुंच चुकी हैं जहां पर किसी विशेष अभिनेता के साथ काम करने या न करने से कोई फर्क नहीं पड़ता। 

अब तो फिल्म की कहानी अगर अच्छी हो तो वह हिट हो जाती है इसलिए वह फिल्म करते समय उसकी कहानी पर विशेष ध्यान दे रही हैं। कंगना ने कहा कि वास्तविक जीवन में वह न तो क्वीन हैं और न ही तनु की तरह। जीवन में व्यक्ति दूसरे को तो आसानी से समझ लेता है परन्तु उसके लिए स्वयं को समझना सबसे कठिन होता है। ऐसा ही उनके साथ हुआ है। उन्होंने कहा कि वह डायरैक्टर बनकर काम करने की इच्छुक हैं। जीवन में अब कुछ अलग करने की चाहत है। साथ ही वह बिजनैस में भी जाना चाहती हैं। डायरैक्टर के तौर पर वह किसी संवेदनशील कहानी पर फिल्म करना चाहेंगी। वह ऐसी फिल्म करना चाहेंगी जिसकी कहानी किसी अन्य के  मन में न आई हो। 

कंगना ने कहा कि अभी उन्होंने विवाह बारे सोचा नहीं है। लड़कियों के जीवन में विवाह भी एक ऐसी घटना है जिसका सबको सामना करना पड़ता है। वह भी 28 वर्ष की हो गई हैं। कभी न कभी तो उन्हें भी विवाह करना पड़ेगा। लड़कियां अब आत्मनिर्भर होती जा रही हैं। उनके लिए करियर भी एक महत्वपूर्ण विषय है। करियर संवारने के बाद ही लड़कियों का ध्यान विवाह की तरफ जाता है।  कंगना ने कहा कि ‘तनु वैड्स मनु रिटर्न्स’ दोस्तों के साथ मिलकर करने का अलग ही मजा था। इन दोस्तों के साथ 4 वर्ष पहले भी फिल्म की इसलिए शूटिंग के दौरान जहां आपस में मजाक चलता रहा वहीं पार्टियों का दौर भी चलता रहा। 

उन्होंने कहा कि जिम्मी शेरगिल ने अच्छी भूमिका निभाई है। फिल्म एक लव ट्राईएंगल भी है। फिल्म में अजीब तरह की कॉमेडी भी है। अब महिला प्रधान फिल्मों का समय चल रहा है। मैंने डबल भूमिका को चुनौती के रूप में लिया तथा अब दर्शक ही फिल्म देखकर तय करेंगे कि वह उनकी इच्छाओं पर कितना खरा उतरती हैं। कंगना ने कहा कि पिछले वर्ष उन्हें कई राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा गया। अब इस फिल्म में उनकी भूमिका को दर्शक कितना सराहते हैं, इस पर निर्भर करेगा कि उन्हें इस वर्ष और कितने पुरस्कार मिलते हैं।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !