शाहिद-आलिया ने फैलाया रायता

Saturday, October 17, 2015 3:13 PM

‘क्वीन’ फेम डायरैक्टर विकास बहल की फिल्म ‘शानदार’ का प्रमोशन कर रहे शाहिद कपूर और आलिया भट्ट शुक्रवार को ‘नवोदय टाइम्स/पंजाब केसरी’ के ऑफिस भी पहुंचे। इस फिल्म में शाहिद की बहन सना कपूर और पिता पंकज कपूर भी अहम रोल में हैं। 22 अक्तूबर को रिलीज हो रही फिल्म के बारे में उन्होंने खुलकर बात की और अपनी निजी जिंदगी से जुड़े वे पन्ने भी खोले जो शायद आज तक अनकहे थे:-

फिल्म का नाम ‘शानदार’ है, दर्शकों को क्या शानदार मिलेगा इसमें?

इस फिल्म का नाम शानदार इसलिए है क्योंकि विकास ने इसे बनाया ही शानदार  है। उनका मानना है कि जिंदगी शानदार है और इसे इसी तरह से जीना चाहिए। देखने वालों में भी एक उत्साह हो, जब लोग फिल्म देखकर बाहर निकलें तो उनके चेहरे पर एक शानदार सा एक्प्रैशन होना चाहिए। 

क्या ‘क्वीन’ की कामयाबी भी एक वजह थी विकास के साथ काम करने की? 

शाहिद-नहीं, बहुत कम लोग जानते हैं कि मैंने और आलिया ने इस फिल्म  को ‘क्वीन’ के रिलीज होने से पहले ही साइन कर लिया था। उन्होंने मुझे फिल्म के बारे में बताया, मुझे कहानी अच्छी लगी और मैंने हां कर दी। 

आलिया- विकास ने मुझे बस 5-6 लाइनों में फिल्म की कहानी बताई थी। बताया था कि डैस्टीनेशन वैडिंग की कहानी है। साथ ही 2 लोग हैं जिन्हें रात को नींद नहीं आती। उन्होंने बताया कि हम दूसरे देश में जाकर शादी का सैटअप लगाएंगे। ये सब बातें मुझे बहुत अच्छी लगी थीं। 

रात को नींद  न आना (इनसोमनिया) एक गंभीर बीमारी है? इसे फिल्म में किस तरह दिखाया?

आलिया-जी हां, इस बीमारी से डील कर पाना बहुत मुश्किल भी हो जाता है। दरअसल मेरी बहन शाहीन को यह बीमारी 16 साल की उम्र से है। कभी-कभी  इस बीमारी से लड़ पाना बहुत ही मुश्किल होता है क्योंकि दिन तो कट जाता है लेकिन रात में आपको समय काटने में बहुत मुश्किल होती है। फिल्म में मेरे किरदार का नाम भी आलिया है और उसे ये बीमारी है। 

‘शानदार’ की आलिया क्या करती है रात में, जब उसे नींद नहीं आती? 

आलिया-‘शानदार’ की आलिया रात में पढ़ाई करती है और बहुत-सी चीजें ऑब्जर्व करती है। उसे कई ऐसी बातें पता हैं जो शायद किसी आम आदमी को पता नहीं होतीं लेकिन वह इस रात के समय को बोझ न बनाकर अपनी नॉलेज बढ़ाने के लिए स्टडी करती है। उसे पता है कि जब कोई लड़का किसी लड़की को पसंद करता है तो वो कम से कम उस लड़की को एक दिन में 8 मिनट 27 सैकेंड के लिए घूरता है। कुल मिलाकर शानदार की आलिया रात के समय का बहुत अच्छे से इस्तेमाल करती है। 

 

10 -12 साल के करियर में आपने काफी उतार-चढ़ाव देखें, लेकिन अब आपकी फिल्मों को लोग पसंद कर रहे हैं?

शाहिद-मैंने हमेशा कोशिश की है कि मैं अपने दर्शकों को एक अच्छी फिल्म दूं। देखकर उन्हें ऐसा न लगे कि उनका वक्त बर्बाद हुआ। मैंने अपनी तरफ से पूरी मेहनत की वो और बात है कि किस फिल्म को दर्शकों का कितना प्यार मिला। मेरी मेहनत में कभी कोई कमी नहीं रही। ऐसा भी नहीं है कि अब पिछले समय से जो फिल्में लगातार चल रही हैं तो मैंने बहुत ढूंढकर कोई फिल्म चुनी है इसलिए वह चली। फिल्में आती चली गईं और मैं करता चला गया।  

इन दिनों कमर्शियल फिल्मों का दौर है? क्या लगता है कि लोगों में संजीदा फिल्मों के प्रति रुझान कम हो रहा है?

शाहिद - नहीं, हम ये नहीं कहेंगे कि आज के दौर में लोगों को संजीदा फिल्में पसंद नहीं आती। अगर आपने अपनी कहानी को सही ढंग से फिल्माया है तो दर्शक उसे जरूर पसंद करेंगे। पिछले दो-तीन सालों को भी अगर आज देखें तो इस प्रकार की संजीदा फिल्मों ने कमर्शियल फिल्मों के मुकाबले अच्छा काम किया है। ‘हैदर’ से हमें इतनी उम्मीदें नहीं थीं लेकिन लोगों ने इसे इतना प्यार दिया। 

आलिया - मैं काफी हद तक शाहिद की बात से सहमत हूं। 

अगर किसी भी कहानी को आप सही ढंग से पर्दे पर उतारेंगे, तो लोग उसे जरूर पसंद करेंगे। 

आप दोनों ही संजीदा फिल्में कर रहे हैं। इसकी वजह क्या है?

आलिया- बतौर एक्टर हमें किसी भी एक तरह 

के किरदार में बंधना नहीं चाहिए। अलग-अलग प्रकार के किरदार निभाने की कोशिश में रहना चाहिए। मैंने भी यही कोशिश की है कि मैं अपनी हर फिल्म में कुछ 

नया करूं। मेरी अगली फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ में मेरा किरदार बिल्कुल अलग है। उस फिल्म में शायद आप लोग मुझे पहचान भी न पाएं। 

डांस आपका पहला प्यार था, लेकिन अब आपने एकिंट्ग को अपना करियर बना लिया?

 

डांस मेरा पहला प्यार था और एकिंटग फाइनल। बतौर अभिनेता कई दफा ऐसा होता था कि लोग मेरे डांस से इतना प्रभावित होते थे कि वो लोग मेरे अभिनय को नोटिस ही नहीं करते थे। इसलिए मैंने कुछ समय कोशिश की कि लोग मेरे अभिनय को पहचानें। अगर आज की बात करें तो इस समय मेरा पहला प्यार एकिंटग है। मैं बतौर अभिनेता अपनी पहचान बनाना चाहता हूं। 

आपको एक-दूसरे की कौन-सी चीज सबसे ज्यादा अच्छी लगती है?

आलिया- शाहिद की जो सबसे खास बात है वो ये है कि वो कभी दिखावा नहीं करते। उनकी एकिं्टग सिर्फ कैमरे के सामने होती है। कैमरे के पीछे वो एक आम इंसान हैं और कभी भी फेक बातें नहीं करते। वो हमेशा वही बोलते हैं जो वो सोचते हैं। 

शाहिद- मुझे आलिया का बेबाक बात करने का अंदाज बहुत पसंद है। वो हमेशा खुलकर बात करती  हैं। बहुत कम लोगों में  यह हुनर होता है लेकिन आलिया हमेशा अपनी हर बात को बड़ी ही बेबाकी से सबके सामने रखती हैं।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !